Home » तीसरा विश्व युद्ध हुआ तो क्या होगा?जाने किन कारण से हो सकता है।

तीसरा विश्व युद्ध हुआ तो क्या होगा?जाने किन कारण से हो सकता है।

इंसानो का इतिहास जंगो और लड़ाइयों से भरा हुआ है, कुछ बड़ी, कुछ छोटी। लेकिन अगर तीसरा विश्व युद्ध हुआ तो क्या होगा? क्या ये इंसानी इतिहास की सबसे बड़ी जंग होगी?

नई तकनीक, ज्यादा सैनिक और उम्दा रणनीति, ये सब होगा इस जंग में। लेकिन ऐसा क्यों होगा और कौन-कौन से देश इसमें हिस्सा लेंगे ? ये जंग कैसे लड़ी जाएगी?

आप पढ़ रहे हैं Science Hindi और क्या होगा अगर तीसरा विश्व युद्ध हो?

विश्व युद्ध की शुरुआत कब हुई:

लोग दशकों से तीसरे विश्व युद्ध की संभावना के बारें में बात करतें आ रहें है. इस युद्ध की शुरआत 1960 के दशक में हुई थी, जब अमेरिका और रूस के बिच कोल्ड वॉर चल रहा था, लेकिन उस समय हम सब की किस्मत अच्छी थी कि ऐसा कुछ नहीं हुआ।

पर चलिए मन लेते है कि हम इतने खुसकिस्मत नहीं है, और अगली बार इसे ताल नहीं पते हैं, तो तीसरा विश्व युद्ध कब हो सकता है? खेर ये कहना तो मुश्किल है.

विश्व युद्ध की शुरआत कैसे होती है।

एक विश्व युद्ध शुरू होने कई कारण हो सकते है, जैसे अहम् राजनेता के मारे जाने से, अत्याधुनिक तकनीक से, या कसी संसाधन को लेकर लड़ाई से। इस तरह से जंग की बात करने से लगता है कि ये होना संभव है.

लेकिन ये होने की असल संभावना आपकी सोच से काफी कम है। 1945 के बाद से दुनिया ने कई तरह की लड़ाइयां देखी है। विएतनाम, अफ़्ग़ानिस्तान और ऐसे दर्जनों सिविल वॉर्स।

हमें ये यद् रखना चाहिए कि एक विश्व युद्ध शुरू होने के लिए ये जरुरी है कि पूरी दुनिआ उसमे शामिल हो। लेकिन दुनिआ का ढांचा 1945 के बाद बहुत बदल चूका है। देशों में अब उस तरह की दोस्ती नहीं रही जैसी एक वक्त हुआ करती थी।

सेनाएं अब पहले से कहीं ज्यादा मजबूत और होनहार हूँ चुकीं है। पिछले विश्व युद्ध की तरह इसमें भी लाखो लोगों की जाने जाएँगी और दुनिया को इससे उबार पाने के साड़ियां नहीं, दशकों का वकत लगेगा।

किन कारण से होगा विश्व युद्ध :

खासतौर से आज के जमाने में इस्तेमाल होने वाले हथियारों की वजह से। जंग के मैदान पर मौजूद सैनिक के पास एक्सोस्केलेटन हो सकते है. ये ऐसे मेटल फ्रेम होते हैं जो सैनिक के शरीर को कवर करते हुए उसकी ताकत को बढ़ाते हैं।

हालाकिं इससे सैनिक किसी रोबोकॉप में नहीं बदलेंगे लेकिन इसके जरिए वो भरी से भरी हथियारों को उठाकर लम्बी दूरियां आसानी से तय कर सकते हैं। ऐसे हथियार जो कोनो में खुद को मोड़-तोड़ सकें, उनकी भी संभावना है।

और हो सकता है ये लड़ाई हमें जमीन या आसमान में होती दिखे, या हो सकता है ये लड़ाई स्पेस में हो। सेनाएं हथियारों के साथ आने वाली ऐसी सेटेलाइटों के लिए जंग कर सकती है जो पूरी दुनिया पर असर दाल सकती हो।

इनमे से ज्यादातर बातेँ किसी साइंस -फिक्शन फिल्म जैसी लगती है. लेकिन हमें ये हकीकत नहीं भूलनी चाहिए कि ये हथियार खतरनाक है, और उम्मीद करनी चाहिए की किसी को भी इन हथियारों के इस्तेमाल की जरुरत न पड़े।

आखिर कर ये लोग मारने के लिए ही तो बने है। लेकिन हो सकता है की मैदान में जयदा सैनिक न हों। यही नहीं भविष्य की जंग कम्प्यूटर पर भी लड़ी जा सकती है। ड्रोन, आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और रोबोट हमारे लिए जंग लड़ सकते है।

कम्प्यूटर से होगा विश्व युद्ध :

एक संभावना ये भी है कि भविष्य की जंग में किसी भी तरह की हिंसा न हो। दूसरे देशों के कम्प्यूटरों को हैक करना, या पावर ग्रिड पर काबू पाना भी जंग के तरीके हो सकते है लेकिन ये लड़ाई किस वजह से होगी?

ये अहम् संसाधनों को लेकर हो सकती है, खासतौर से पानी को लेकर। क्यूंकि साफ पानी बहुत कम मात्रा में है और बेहद अहम है, इसकी कमी होने से देशों के बिच जंग हो सकती है। लेकिन हमें उम्मीद है कि तीशरे विश्व युद्ध जयदा लम्बा नहीं चलेगा। तो ये ख़तम कैसे होगा?

तीसरा विश्व युद्ध अब तक न होने के पीछे की एक वजह, बल्कि सबसे अहम वजह है ये चीजें। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान, अमेरिका ने जापान पर परमाणु यानि नुक्लियर हमला किया था, जिससे 1 लाख लोगों की जान गई थी।

जापान में पहला इतेमाल खतरनाक हथ्यार का

जिन शहरों पर ये बम गिरे थे वो दशकों तक इससे उबर नहीं पाए। दूसरे विश्व युद्ध में इस्तेमाल हुए ये दोनों बम आज के वक्त में मौजूद हथियारों के आगे बहुत कम है। और हाँ, इस वक्त दुनिया में लगभग 14,000 परमाणु ठिकाने हैं इनमे से ज्यादातर अमेरिका रूस और चीन के पास है।

एक देश के पास उसके लोग, इस तरह की समृद्धी रणनीति, सब कुछ हो सकता है, लेकिन अगर एक परमाणु बम वहां गिरता है, तो ये सब एक झटके में ख़त्म हो जायेगा। और अगर एक देश परमाणु हमला करता है,

तो दूसरा देश ऐसा करने से क्यों रुकेगा? और फिर एक और देश? और जल्द ही पूरी दुनिया बर्बाद हो जाएगी। तो ये लड़ाई जीतेगा कौन? कोई भी नहीं पुरे जोर से तीसरा विश्व युद्ध होने से पूरी दुनिया पर असर होगा।

ये कहा जा सकता है की दुनिया पहले जैसी नहीं रहेगी। लेकिन इस चिंता में अपनी रातों की नींद ना उड़ने दे। वैसे भी कई देशों के बिच ऐसी कई जंग चल रही है। अगर दो देशों के बीच कोई लड़ाई होती भो है,

तो भी दूसरे देशों की उसमे शामिल होने की ज्यादा संभावना नहीं है। जंग एक भयानक चीज है। हमें इससे बचने की कोशिश करनी चाहिए। क्यूंकि हम देख रहे हैं जिन देशों में गृह युद्ध चल रही है उनकी क्या हालत हैं।

ऐसी इंट्रेस्टिंग और जानकारी भरे पोस्ट पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर जरूर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल Science Hindi को भी सब्सक्राइब करें