MP Board Class 12th Hindi Solutions Chapter 6 शौर्य गाथा

In this article we have given MP Board Class 12th Hindi Solutions Makrand Chapter 6 शौर्य गाथा (कविता, महाकवि-भूषण solutions with pdf file. these solutions are solved by subjects experts.

शौर्य गाथा परीक्षोपयोगी महत्वपूर्ण प्रश्न

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर –

प्रश्न 1. शत्रु युद्ध भूमि में ऐसे पड़े हैं जैसे –
(क) पंख कटे निस्सहाय पक्षी पड़े हों
(ख) सर कटे हाथी पड़े हों
(ग) पैर कटे निस्सहाय पशु पड़े हों
(घ) सर कटे शव पड़े हों
उत्तर:
(क) पंख कटे निस्सहाय पक्षी पड़े हों।

प्रश्न 2. नगाड़ों के बजने का कोलाहल…………है।
(क) बेसुरा
(ख) सीमाहीन
(ग) कानफोडू
(घ) अंतहीन
उत्तर:
(ख) सीमाहीन।

MP Board Solutions for class 12 hindi chapter 6

प्रश्न 3. ‘भुज भुजगेस……” कवित्त में मुख्य रूप से किसका वर्णन किया गया है?
(क) छत्रसाल के शौर्य का
(ख) छत्रसाल की बरछी का
(ग) छत्रसाल के साहस का
(घ) छत्रसाल द्वारा लड़े गए मयान व युद्ध।
उत्तर:
(ख) छत्रसाल की बरछी का।

प्रश्न 4. छत्रसाल की बरछी की तुलना की गई है –
(क) मछली से
(ख) साँपिन से
(ग) काल से
(घ) यमराज से
उत्तर:
(क) मछली से।

प्रश्न 5. ‘सरजा’ किसे कहा गया है?
(क) शिवाजी को
(ख) छत्रसाल को
(ग) शत्रुओं को
(घ) हाथ को
उत्तर:
(क) शिवाजी को।

प्रश्न 6. भुजंगिनी-सी में………..है –
(क) अनुप्रास अलंकार
(ख) उत्प्रेक्षा अलंकार
(ग) उपमा अलंकार
(घ) रूपक अलंकार
उत्तर:
(ग) उपमा अलंकार

प्रश्न 7. ‘खेदि-खेदि खाती दीह दारुन दलन के’ में प्रयुक्त………..अलंकार है।
(क) अनुप्रास
(ख) श्लेष
(ग) यमक
(घ) उपमा
उत्तर:
(क) अनुप्रास

प्रश्न 8. शौर्य-गाथा में वर्णन किया गया है –
(क) देशी राजाओं की वीरता का
(ख) वीरतापूर्ण ऐतिहासिक घटनाओं का
(ग) शिवाजी के शौर्य का
(घ) छत्रसाल के शौर्य का
(ङ) शिवाजी और छत्रसाल के शौर्य का
उत्तर:
(ङ) शिवाजी और छत्रसाल के शौर्य का।

MP Board Solutions

MP Board 12th Hindi Chapter 6 Shorya Gatha Solution

II. निम्नलिखित रिक्त स्थानों की पूर्ति दिए गए विकल्पों के आधार पर करें –

  1. खेदि-खेदि खाती दी दारुन दलन ………. अलंकार का उदाहरण है। (उपमा/अनुप्रास)
  2. भूषण ………. के महान कवि हैं। (शृंगार रस वीररस)
  3. शिवा-शौर्य में ………. के वीरता के वर्णन किया गया है। (छत्रसाल शिवाजी)
  4. शौर्य-गाथा की भाषा ………. है। (ब्रजभाषा/अवधी)
  5. भूषण ………. के कवि हैं। (वीरगाथाकाल/रीतिकाल)

उत्तर:

  1. अनुप्रास
  2. वीररस
  3. शिवाजी
  4. ब्रजभाषा
  5. रीतिकाल।

III. निम्नलिखित कथनों में सत्य असत्य छाँटिए –

  1. भूषण शिवाजी के राज्याश्रित थे।
  2. कोकवान एक हथियार है।
  3. भूषण भक्तिरस के कवि हैं।
  4. भूषण रीतिकाल के कवि हैं।
  5. भूषण की भाषा अवधी है।

उत्तर:

  1. सत्य
  2. सत्य
  3. सत्य
  4. सत्य
  5. असत्य।

IV. सही जोड़े मिलाइए –

उत्तर:

(i) (ङ)
(ii) (ग)
(iii) (घ)
(iv) (ख)
(v) (क)।

V. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक शब्द या एक वाक्य में दीजिए –

प्रश्न 1. चतुरंगिणी सेना किसे कहते हैं?
उत्तर:
जिस’ सेना में हाथी, रथ, घोड़े अर्थात् घुड़सवार, पैदल सेना सम्मिलित होती है, उसे चतुरंगिणी सेना कहते हैं।

प्रश्न 2. सेना की उड़ती हुई धूल से आकाश में सूर्य कैसा दिखाई देता है?
उत्तर:
सेना की उड़ती हुई धूल से आकाश में सूर्य तारे के समान दिखाई देता है।

प्रश्न 3. किसमें प्राण-रक्षा कठिन हो रही थी?
उत्तर:
मचानों की ओट में प्राण-रक्षा कठिन हो रही थी।

प्रश्न 4. शिवाजी के आक्रमण से शत्रुओं की सेना में क्या उत्पन्न हो गई?
उत्तर:
शिवाजी के आक्रमण से शत्रुओं की सेना में घबराहट उत्पन्न हो गई।

Class 12 Hindi Chapter 6 Solution Shorya Gatha

प्रश्न 5. छत्रसाल की तलवार को किसके समान कहा गया है?
उत्तर:
छत्रसाल की तलवार को प्रलयकालीन सूर्य की किरणों के समान कहा गया है।

शौर्य गाथा लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. जोर-जोर से नगाड़े क्यों बजाए जाते हैं?
उत्तर:
सैनिकों में उत्साह भरने के लिए नगाड़े जोर-जोर से बजाए जाते हैं।

प्रश्न 2. सेना के युद्ध के लिए प्रस्थान करने से सूर्य पर क्या प्रभाव पड़ता है?
उत्तर:
सेना के युद्ध के लिए प्रस्थान करने से इतनी धूल उड़ती है कि सूर्य तारे जैसा दिखाई देता है।

प्रश्न 3. कोकबान किसे कहते हैं?
उत्तर:
एक विशेष प्रकार का तीर, जिसके चलने से एक विशेष ध्वनि निकलती है।

प्रश्न 4. छत्रसाल की बरछी शत्रुओं के प्राण कैसे हरती है?
उत्तर:
छत्रसाल की बरछी शत्रुओं के प्राण नागिन की भाँति हरती है।

प्रश्न 5. ‘पच्छी परछीने ऐसे परे पर छीरे वीर’ का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
युद्धभूमि में वीर शत्रु ऐसे पड़े हैं जैसे पंख कटे निस्सहाय पक्षी।

प्रश्न 6. युद्ध के समय किसकी आवाज दूर-दूर तक सुनाई पड़ती थी?
उत्तर:
युद्ध के समय नगाड़ों की आवाज दूर-दूर तक सुनाई पड़ती थी।

प्रश्न 7. शत्रु सैनिक किसकी आड़ में शस्त्र चला रहे थे?
उत्तर:
शत्रु सैनिक मोर्चे की आड़ में शस्त्र चला रहे थे।

12th Hindi Chapter 6 Question and Answer

प्रश्न 8. कवि ने शेषनाग और उसकी संगिनी किसे कहा है?
उत्तर:
कवि ने छत्रसाल की भुजा को शेषनाग और वरछी को उसकी संगिनी कहा है।

शौर्य गाथा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. महाराज शिवाजी किस प्रकार और कहाँ जा रहे हैं?
उत्तर:
महाराज शिवाजी अपनी विशाल चुतरंगिणी सेना अर्थात् हाथी, घोड़े, रथ और पैदल सैनिकों को अस्त्र-शस्त्र से सुसज्जित करके शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के उद्देश्य से युद्धभूमि की ओर जा रहे हैं।

प्रश्न 2. छत्रसाल की बरछी और भुजंगिनी में क्या साम्य है?
उत्तर:
जिस प्रकार नागिन सदैव शेषनाग के साथ रहती है और अपने शत्रुओं को खोज-खोजकर डसती है अर्थात् उनके प्राण ले लेती है, उसी प्रकार छत्रसाल की बरछी सदा उनकी भुजा के साथ रहती है और वह भी शत्रुओं को खोज-खोजकर संहार करती है। नागिन और बरछी दोनों शत्रुओं का संहार करती हैं। दोनों में यही साम्य है।

प्रश्न 3. शिवाजी के वीर सैनिक किले पर कैसे कब्जा करते हैं?
उत्तर:
शिवाजी के वीर सैनिक खाई में छिपकर हमला करते हैं और शत्रुपक्ष के सैनिकों पर मिलकर धावा बोलते हैं। वे अपनी मूंछों को ताव देते हुए किले के कंगूरों पर पाँव टिकाते हुए शत्रुओं को घायल कर उनके किले के अंदर कूद पड़ते हैं और इस तरह शत्रु के किले पर कब्जा कर लेते हैं।

प्रश्न 4. “कालिका-सी किलकि कलेऊ देती काल कों” का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
शिवाजी की तलवार किलकारी भरती हुई महाकाली के समान विकट शत्रुओं को मार-काटकर महाकाल यमराज को भोग लगाने के लिए प्रस्तुत कर देती है। इस प्रकार शिवाजी की तलवार से बचना असंभव है।

प्रश्न 5. छत्रसाल की बरछी की विशेषताएँ लिखिए। (M.P. 2009-10)
उत्तर:
छत्रसाल की बरछी नागिन के समान है। वह अपने शत्रुओं को चुन-चुनकर मारती है। वह अपने शत्रुओं के बख्तरों को फाड़कर उनके शरीर में इस प्रकार घुस जाती है, जैसे मछली जल की धारा को चीरती हुई आगे बढ़ जाती है।

शौर्य गाथा पाठ्य-पुस्तक पर आधारित प्रश्न

शौर्य गाथा लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. किस प्रकार की सेना को चतुंरगिनी सेना कहा गया है?
उत्तर:
हाथी, घोड़े, रथ और पैदल सेना को चतुरंगिणी सेना कहा गया है।

MP Board Solutions 12th Hindi

प्रश्न 2. युद्ध के समय किसकी आवाज़ दूर-दूर तक सुनाई पड़ती थी?
उत्तर:
युद्ध के समय सेना में उत्साह उत्पन्न करने वाले नगाड़ों की आवाज़ दूर-दूर तक सुनाई पड़ती थी।

प्रश्न 3. शत्रु-सैनिक किसकी आड़ लेकर शस्त्र चला रहे थे?
उत्तर:
शत्रु सैनिक मोर्चाबंदी की आड़ लेकर शस्त्र चला रहे थे।

प्रश्न 4. कौन-कौन से शस्त्र शत्रु-सैनिक चला रहे थे?
उत्तर:
शत्रु सैनिक तोप, बंदूक और कोकबान जैसे शस्त्र चला रहे.थे।

प्रश्न 5. कवि ने शेषनाग और उसकी संगिनी किसे कहा है?
उत्तर:
कवि ने छत्रसाल की भुजाओं को शेषनाग और उनकी बरछी को उसकी संगिनी कहा गया है।

प्रश्न 6. कवि ने किन राजाओं के शौर्य का वर्णन किया है?
उत्तर:
छत्रपति महाराज शिवाजी और छत्रसाल के शौर्य का वर्णन किया है।

शौर्य गाथा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1. शिवाजी के युद्ध-अभियान का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
शिवाजी चतुरंगिणी सेना को अस्त्र-शस्त्र से सुसज्जित होकर, विजय प्राप्त करने के उद्देश्य से युद्ध-क्षेत्र की ओर प्रस्थान करते हैं। युद्ध-अभियान पर जाते समय युद्ध के परिचायक नगाड़े बड़े जोर-जोर से बजते हैं, जिससे सैनिक में साहस और उत्साह उत्पन्न होता है। हाथियों के गंडस्थल से अत्यधिक मद बहने लगता है। सेना के युद्ध अभियान पर जाने के कारण अत्यधिक धूल आकाश में छा जाती है। फलस्वरूपं सूर्य तारे के समान दिखाई देता है। हाथियों के परस्पर टकराने से ऐसा लगता है, मानो पर्वत उखड़े चले जा रहे हैं। विशाल सेना के युद्ध-अभियान के बढ़ते कदमों का दबाव इतना अधिक था कि समुद्र का जल थाली में पड़े पारे की तरह हिलता है।

प्रश्न 2. शिवाजी की सेना ने किस प्रकार शत्रुओं पर आक्रमण किया?
उत्तर:
शिवाजी की सेना ने मोर्चाबंदी की ओट में छिपे शत्रुओं पर तोप, बंदूक और कोकबान से आक्रमण किया। इस आक्रमण से शत्रुओं की सेना में घबराहट उत्पन्न हो गई।

MP Board Solutions

प्रश्न 3. छत्रसाल की बरछी की विशेषताएँ लिखिए। (M.P. 2009, 2010)
उत्तर:
छत्रसाल की बरछी नागिन की भाँति शत्रुओं को चुन-चुनकर मारती है। वह शत्रुओं के शरीर. के कवचों, हाथी पर पड़ी लोहे के जाल में मछली की तरह सीधी घुसकर चीर देती है।

प्रश्न 4. छत्रसाल की तलवार को प्रलयकालीन सूर्य के समान क्यों कहा है? (M.P. 2009; 2010)
उत्तर:
छत्रसाल की तलवार को प्रलयकालीन सूर्य समान कहा गया है, क्योंकि यह तलवार प्रलयकालीन सूर्य की महाज्वाला के समान चमकती है जो शत्रुओं के समूह रूपी अंधकार को चीरकर रख देती है।

प्रश्न 5. ‘कालिका-सी किलकि कलेऊ देति काल को’ का भाव स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
शिवाजी की तलवार किलकारियाँ भरती हुई महाकाली के समान अति शक्तिशाली शत्रुओं को काट-काट कर यमराज को नाश्ते के रूप में भेंट करती है। भाव यह है कि शिवाजी की तलवार शत्रुओं को यमलोक पहुँचा देती है।

for more MP Board Solutions follow on (Google News) and share with your friends.

Leave a Comment