सोशल मीडिया पर 9 साल का बच्‍चा कर रहा था अश्लील वीडियो वायरल

नई दिल्‍ली. दिल्ली पुलिस ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी (Child Pornography) के खिलाफ पैन दिल्ली ऑपरेशन शुरू किया हुआ है. इसे ऑपरेशन मासूम (Operation Masoom) नाम दिया गया है. वहीं, इस ऑपरेशन के दौरान कई हैरान करने वाले खुलासे हुए हैं. दरअसल, निजामुद्दीन थाना पुलिस ने एक 9 साल के बच्चे के खिलाफ सोशल मीडिया पर अश्लील वीडियो वायरल करने का मामला दर्ज कर लिया है. सूत्रों के मुताबिक, दिल्‍ली पुलिस ने बच्चे से उसके घर जाकर पूछताछ की है.

वहीं, इस मामले को लेकर दिल्‍ली पुलिस की तरफ से कुछ भी ऑफिशियली नहीं कहा गया है. हालांकि दक्षिण-पूर्व जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, आरोपी बच्चा दक्षिण दिल्ली के एक प्रतिष्ठित स्कूल में पढ़ता है और वह बस 9 साल का है. यही नहीं, बच्चे ने सोशल मीडिया पर अश्लील वीडियो वायरल करने के लिए अपने पिता के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया. इसके लिए उसने बाकायदा एक ई-मेल आईडी भी बनाई थी. हालांकि बच्चे के पास अश्लील वीडियो कहां से आए ये बात समझ नहीं आ रही हैं, क्‍योंकि बच्चे के पिता कम शिक्षित हैं.

अमेरिकी एनजीओ की शिकायत पर दर्ज हुआ मामला

बच्‍चे के खिलाफ मामला अमेरिकी एनजीओ एनसीएमईसी की शिकायत पर निजामुद्दीन थाने में दर्ज किया गया है. पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस मामले में बच्चे से पूछताछ की है. बच्चे ने ये वीडियो कुछ समय पहले भेजा था. बता दें कि एनसीएमईसी सोशल मीडिया पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी को लेकर नजर रखती है और इस तरह का मामला आने पर संबंधित देश को बताती है. एनसीएमईसी ने बच्चे का मामला एनसीआरबी को बताया और एनसीआरबी ने ये जानकारी दिल्ली पुलिस को दी. दिल्ली पुलिस इस मामले में जांच कर रही है.

अब तक 97 लोग गिरफ्तार

ऑपरेशन मासूम को स्पेशल सेल की साइबर क्राइम यूनिट और सभी जिला पुलिस के सहयोग चलाया जा रहा है. जबकि बाल अश्लील सामग्री से संबंधित उल्लंघनों की जानकारी साइबर क्राइम यूनिट को राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के माध्यम से मिलती है, जिसका राष्ट्रीय गुमशुदा और शोषित बच्चों के केंद्र (एनसीएमईसी) के साथ समझौता है. पैन दिल्ली के आधार पर विभिन्न थानों में 100 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं और अपराधियों के खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्रवाई की गई है. इस ऑपरेशन के दौरान अब तक 97 लोगों की गिरफ्तारियां हो चुकी हैं.

गुम और शोषित बच्चों के लिए राष्ट्रीय केंद्र (NCMEC) एक निजी और गैर-लाभकारी संगठन है. इस संगठन की स्थापना वर्ष 1984 में संयुक्त राष्ट्र कांग्रेस द्वारा की गई थी. संगठन यूएसए में स्थित है. संगठन ने फेसबुक, इंस्टाग्राम और अन्य जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के साथ करार किया है. उन्हें सोशल मीडिया पर जब भी बच्चों के संबंध में कोई अश्लील सामग्री मिलती है तो वो रेड फ्लैग कर देते हैं. वे उस उपयोगकर्ता का आईपी पता विवरण प्राप्त करते हैं जिसने अश्लील सामग्री अपलोड की थी.

Leave a Comment

महिला वर्कआउट: 10 लेग एक्सरसाइज Squat Jump कैसे करें